फर्जी है वायरल चैट, मेरे खिलाफ षड्यंत्र – डॉ आर एन खरे

अम्बिकापुर / दो लोगो के बीच वाट्सअप चैट में हुई बात चीत के मामले में नया मोड़ आया है, इस संबंध में लखनपुर इंजीनियरिंग कालेज के प्राचार्य डॉ राम नारायण खरे इसके खिलाफ सामने आए हैं और उन्होंने वाट्सअप चैट फर्जी होने का दावा किया है, इस संबंध में उन्होंने अम्बिकापुर मणिपुर चौकी पुलिस को शिकायत भी की है और मामले की जांच की मांग की है, प्राचार्य डॉ खरे का कहना है की उनके खिलाफ साजिश के तहत ये वाट्सएप स्क्रीन शॉर्ट वायरल कराई गई है, जबकी इस तरह की कोई बात उन्होंने किसी से नही की है, लिहाजा वायरल लेटर के आधार पर खबरों में जो संदेह किया गया था, उसे गलत बताया गया है और पुलिस से मामले की जांच करने के लिए आवेदन भी दिया गया है।

दरअसल बीते दिनों वाट्सअप चैट के स्क्रीन शार्ट की प्रिंट आउट बांटी गई, और इसके आधार पर यह खबर भी बन गई, चर्चा का विषय बना हुआ था की आखिर ये चैट कितना सही है और इंजीनियरिंग कालेज के प्रिंसिपल डॉ राम नारायण खरे द्वारा बात चीत के वाट्सअप चैट होने का अंदेशा जताया गया था, लेकिन इसके खिलाफ डॉ राम नारायण खरे खुद सामने आए हैं इसे गलत बताते हुए जांच की मांग की है।

डॉ खरे ने बताया की कुछ लोग लंबे समय से उन्हें बदनाम करने की साजिश कर रहे हैं, लेकिन शिकायत कर अब वो एफआईआर कराने और मानहानि का मुकदमा करने की तैयारी में हैं, इस संबंध में उन्होंने शुक्रवार को पुलिस महानिरिक्षक सरगुजा रेंज से मुलाकात कर मामला दर्ज कराने की मांग की है।

इसके अलावा डॉ रामनारायण खरे पर वित्तीय मामले की जांच को भी उन्होंने गलत बताया है और कहा है की मामला अग्रिम समायोजन का है और इस मामले में राजभवन द्वारा जांच कराने के बाद उन्हें पद पर बहाल किया गया है। उन्होंने यह भी कहा की प्रिंसिपल को वित्तीय पवार ही नही होते यह अधिकार रजिस्टार के पास होता है तो फिर वो वित्तीय अनियमितता कैसे कर सकते हैं।

साथ ही महामहिम और माननीय न्यायालय के आदेश के बाद बहाली होने के बाद वित्तीय मामले की बात का कोई औचित्य नही बचता। उन्होंने कहा है की कुछ लोग बदले की भावना से पद का दुरुपयोग कर रहे हैं, बहाली के खिलाफ भी कोर्ट में गए है, कोर्ट ने उसे खारिज कर दिया, अब इस तरह के काम कर रहे हैं, जांच में साबित होने पर ऐसे लोगो के खिलाफ एक्शन लिया जाएगा।

डॉ खरे ने बताया की विगत एक वर्ष से उन्हें और उनकें परिवार को इस तरह के बेबुनियाद आरोप के आधार पर परेशान किया जा रहा है, जबकी मेरा आपरेशन हुआ है और लोग मुझे परेशान कर रहे हैं।

बहरहाल डॉ खरे अब पुलिस और साइबर सेल की मदद से ऐसे लोगो को बेनकाब कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई चाहते हैं जिन्होंने उन्हें बदनाम करने साजिश रची है।

86total visits,1visits today

Share this news
  •  
  •  
  •  
  •