विधायक के सफल प्रयासों से एक साल के भीतर प्रदेश की पहली विधानसभा को मिली करोड़ों की सौगात

कोरिया / प्रदेश की पहली विधानसभा का दर्जा प्राप्त भरतपुर-सोनहत विधानसभा क्षेत्रीय विधायक एवं सविप्रा उपाध्यक्ष राज्यमंत्री गुलाब कमरो के नेतृत्व में उत्तरोत्तर विकास की ओर अग्रसर है। विधायक कमरो के सफल प्रयासों से क्षेत्र को एक वर्ष के भीतर ही लगभग 422 करोड़ रूपए के विकास कार्यों की सौगात मिली है।

भरतपुर-सोनहत विधानसभा क्षेत्र में विकास कार्यों पर सरसरी निगाह फेरें तो पता चलता है कि शासन ने सोनहत स्थित गुरू घासीदास राष्ट्रीय उद्यान में 150 करोड़ की
अनुमानित लागत से टाइगर रिजर्व की सौगात दी है। वहीं 45 करोड़ की लागत से सोनहत में एकलव्य विद्यालय,
केल्हारी को तहसील का दर्जा एवं 2 करोड़ 40 लाख की लागत से सर्वसुविधायुक्त सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र , 5.27 लाख की लागत से 400 नग हैण्डपम्प, विधायक निधि मद से हितग्राहियों को 2 करोड़, विकास कार्यों के लिए समग्र विकास मद से 2 करोड़ एवं सरगुजा विकास
प्राधिकरण से 2 करोड़, हितग्राहियों को स्वेच्छानुदान मद से 20 लाख दिए गए हैं।

मुख्यमंत्री सड़क योजना के तहत् 4.25 करोड़ की लागत से सड़क मरम्मत, 80 लाख की लागत से मुख्तियारपारा में सड़क निर्माण, 52 लाख की लागत से सिरौली में गौरव पथ, भरतपुर में 2 करोड़ की लागत से सड़क व पुलिया निर्माण, नगर पंचायत खोंगापानी में 2.50 करोड़ की लागत से विभिन्न निर्माण कार्य, पीडब्ल्यूडी की सड़कों के निर्माण हेतु 10 करोड़ वहीं पीडब्ल्यूडी की सड़कों के मरम्मत हेतु 1 करोड़ रूपए स्वीकृत किए गए हैं।

विधानसभा के 30 गाँवों में प्रकाश व्यवस्था के लिए स्ट्रीट लाइट हेतुु 3 करोड़, भरतपुर-सोनहत के विभिन्न प्राथमिक, माध्यमिक शालाओं में बाउण्ड्रीवाल निर्माण हेतु 55 लाख, जनसम्पर्क निधि से जरूरतमंद हितग्राहियों और विकास कार्यों में 3 करोड़ 50 लाख, वहीं भरतपुर-सोनहत क्षेत्र में श्री राम वनगमन मार्ग के विकास हेतु 180 करोड़ रूपए की मंजूरी प्रदान की गई है।

यही नहीं विधायक कमरो के प्रयासों से कोरिया जिले के सभी शासकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों को सर्वसुविधायुक्त बनाने हेतु सोनोग्राफी मशीन तथा मरच्युरी व जनरेटर की व्यवस्था की गई है जिससे लोगों को
बड़ी राहत मिली है।

बड़ी बात यह कि समूचे छत्तीसगढ़ में भरतपुर-सोनहत मात्र एक ऐसी विधानसभा है जहां 44 नवीन ग्राम पंचायतों का निर्माण किया गया है। नए ग्राम पंचायत बनने से ग्रामीणों को सुविधाएं अधिक मिलेंगी।

स्वतंत्र पंचायत बनने से गाँव के विकास को गति मिलेगी साथ ही आश्रित ग्रामों से कई बार विकास कार्यों को लेकर मन मुटाव होता था उनसे भी ग्रामीणों को छुटकारा मिलेगा। ग्रामीण अपने ग्राम पंचायत के विकास के लिए स्वयं सहभागी बनेंगे।

विधायक गुलाब कमरो ने कहा कि उन्होंने अपने विधानसभा क्षेत्र में शून्य से काम करना शुरू
किया है। स्वास्थ्य और शिक्षा व्यवस्था को दुरूस्त करना उनकी पहली प्राथमिकता है। स्वास्थ्य सुविधाओं के विषय में उन्होंने कहा कि सरकारी अस्पतालों में न तो शव वाहन
थे न चीर घर था और न ही ऑटोमेटिक जनरेटर थे। तीनों स्वास्थ्य सुविधाओं पर प्राथमिकता से कार्य किया गया
और एक साल के भीतर हम स्वास्थ्य को इस मुकाम पर लाने में सफल रहे हैं।

शिक्षा की बात करें तो डीएमएफ से भरतपुर-सोनहत विधानसभा के 82 प्राथमिक और माध्यमिक शालाओं में
वैकल्पिक व्यवस्था के तहत् शिक्षकों की भर्ती करने जा रहे हैं जिसमें भरतपुर के शिक्षित बेरोजगार युवाओं को नौकरी दी जाएगी ताकि शिक्षा प्रभावित न हो। साथ ही
उन्होंने कहा कि 15 सालों के बाद प्रदेश में पहली बार 15 हजार नियमित शिक्षकों की भर्ती हमारी सरकार करने जा
रही है जिसमें कोरिया जिले से भी हजारों शिक्षकों की भर्ती होगी। अंत में विधायक ने कहा कि एक साल के भीतर विकास की यह एक बानगी मात्र है।

उन्होंने आने वाले समय में संपूर्ण विधानसभा क्षेत्र के सर्वांगीण विकास का संकल्प लिया और कहा कि भरतपुर-सोनहत विधानसभा न केवल अंकों में प्रदेश की पहली विधानसभा के रूप में जाना जाएगा, बल्कि शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, बिजली, पानी आदि तमाम बुनियादी सुविधाओं में प्रदेश में अव्वल होगा।

Share this news
  •  
  •  
  •  
  •