गीता के पास मुझसे कम मैडल, फिर भी वह DSP तो मैं SI क्‍यों ? बबीता फोगाट, मामला पहुँचा कोर्ट…

आपको बता दे कि बबीता फोगाट के वकील बलजीत बेनीवाल ने बताया कि बबीता ने छ: साल से प्रमोशन न होने पर हरियाणा सरकार के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर की है. याचिका में कहा गया है कि गीता फोगाट डीएसपी हैं. लेकिन बहन से ज्यादा मेडल जीतने के बावजूद एसआई पद से बबीता का प्रमोशन नहीं हो रहा है. हाईकोर्ट ने अगली सुनवाई में बबीता के वकील को गीता फोगाट का नियुक्ति पत्र पेश करने के निर्देश दिए हैं। बबीता के वकील बलजीत बेनीवाल ने बताया कि बबीता ने अपनी याचिका में प्रमोशन के लिए दो आधार बनाए हैं. इनमें एक उनकी अभी तक की सभी उपलब्धियों की जानकारी दी गई है और दूसरा, बहन गीता फोगाट से ज्यादा मेडल जीतने का हवाला दिया है. बेनीवाल ने कहा जब बबीता के पास गीता से ज्यादा मेडल हैं, तो वे एसआई के पद पर क्यों रहें. सरकार उन्हें प्रमोशन क्यों नहीं दे रही है? गौरतलब है कि गीता फोगाट के हाईकोर्ट जाने पर ही सरकार ने उन्हें प्रमोट करके डीएसपी बनाया था. अब बबीता भी प्रमोशन के लिए हाईकोर्ट पहुंच गई हैं.

चरखी दादरी जिले के गांव बलाली की बबीता फोगाट ने 2010 के कॉमनवेल्थ गेम्स में सिल्वर मेडल जीता था. इस उपलब्धि के आधार पर सरकार ने बबीता को 2013 में हरियाणा पुलिस में एसआई बनाया था. इस समय बबीता मधुबन में तैनात हैं. छह साल की नौकरी होने के बावजूद उन्हें प्रमोशन नहीं मिला है. जबकि एसआई बनने के बाद भी वे देश के लिए लगातार मेडल जीत रही हैं.

दोनो बहनों की उपलब्धियों की बात की जाए तो बबीता ने 2010 कॉमनवेल्थ गेम्स में पहला सिल्वर मेडल जीता था. उसके बाद कॉमनवेल्थ गेम्स 2014 में गोल्ड मेडल और 2018 में सिल्वर मेडल जीता. कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप 2009 व 2011 में गोल्ड मेडल जीता और वर्ल्ड चैंपियनशिप 2012 में सिल्वर मेडल जीता. एशियन चैंपियनशिप 2013 में भी ब्रांज मेडल जीता और 2016 में रियो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व किया. वहीं, गीता फोगाट की अब तक की उपलब्धियो की बात करें तो उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स 2010 में गोल्ड मेडल जीता. कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप 2009 व 2011 में गोल्ड और 2013 में एक सिल्वर मेडल जीता है. वर्ल्ड चैंपियनशिप 2012 में एक ब्रांज व एशियन चैंपियनशिप 2012 व 2015 में ब्रांज मेडल जीते हैं. 

Share this news
  • 12
  •  
  •  
  •  
  •