हद हो गई, अस्पताल में नही था शव कक्ष तो शव को रखा शौचालय में…

जशपुर / छत्तीसगढ़ के जशपुर में एक बार फिर से मानवता शर्मसार हुई है। सन्ना प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में अस्पताल प्रबंधन द्वारा मृतक के शव को शौचालय में रखे जाने का मामला सामने आया है।

आपको बता दे कि सन्ना के चलनी में एक ग्रामीण द्वारा जहर का सेवन किया गया था जिसकी अस्पताल पहुँचने से पहले रास्ते में ही मौत हो गई थी। अस्पताल में कोई चिकित्सक न होने के कारण तत्काल शव का पीएम नहीं किया जा सका। इस दौरान अस्पताल प्रबंधन द्वारा मृत देह को अस्पताल के वार्ड कक्ष से लगे शौचालय में रखवा दिया गया।

सन्ना थाना इलाके का मृतक बिट्टू और उसके पत्नी के बीच शराब पीने को लेकर विवाद हुआ था। जिसमे पति बिट्टू राम द्वारा तैश में आकर कीटनाशक का सेवन कर लिया गया था। जिससे उसकी हालत गंभीर हो गई और अस्पताल पहुँचने से पहले रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। जब परिजन अस्पताल पंहुचे तब वहाँ कोई चिकित्सक मौजूद नहीं था। मामले की जानकारी सन्ना पुलिस को दी गई पर चिकित्सक न होने के कारण शव का तत्काल पोस्टमार्टम नहीं कराया जा सका।लिहाजा अस्पताल के कर्मचारियों द्वारा शौचालय में ही शव को रखवा दिया गया।

मामले में जब अस्पताल प्रबंधन से बात की गई तो उनका कहना था की शव को शौचालय में रखना ठीक नहीं पर उनकी मज़बूरी है क्योंकि अस्पताल में शव कक्ष नहीं है।

जिले में शव के साथ पहले भी इस प्रकार की अमानवीय घटना सामने आ चुकी है। फिलहाल अस्पताल प्रबंधन द्वारा मृतक के शव को अस्पताल के शौचालय में रखे जाने से कई सवाल खड़े हो रहे हैं पर जबाब देने कोई तैयार नही।

Share this news
  • 32
  •  
  •  
  •