Home उज्जैन संभाग उज्जैन नागपंचमी विशेष - नागचंद्रेश्वर मंदिर : खुलता है सिर्फ साल में आज...

नागपंचमी विशेष – नागचंद्रेश्वर मंदिर : खुलता है सिर्फ साल में आज के दिन

हिंदू धर्म में सदियों से नागों की पूजा करने की परंपरा रही है। हिंदू परंपरा में नागों को भगवान का आभूषण भी माना गया है। भारत में नागों के अनेक मंदिर हैं, इन्हीं में से एक मंदिर है उज्जैन स्थित नागचंद्रेश्वर का,जो की उज्जैन के प्रसिद्ध महाकाल मंदिर की तीसरी मंजिल पर स्थित है। इसकी खास बात यह है कि यह मंदिर साल में सिर्फ एक दिन आज नागपंचमी (श्रावण शुक्ल पंचमी) पर ही दर्शनों के लिए खोला जाता है। ऐसी मान्यता है कि नागराज तक्षक स्वयं मंदिर में रहते हैं।

नागचंद्रेश्वर मंदिर में 11वीं शताब्दी की एक अद्भुत प्रतिमा है, इसमें फन फैलाए नाग के आसन पर शिव-पार्वती बैठे हैं। कहते हैं यह प्रतिमा नेपाल से यहां लाई गई थी। उज्जैन के अलावा दुनिया में कहीं भी ऐसी प्रतिमा नहीं है।

पूरी दुनिया में यह एकमात्र ऐसा मंदिर है, जिसमें विष्णु भगवान की जगह भगवान भोलेनाथ सर्प शय्या पर विराजमान हैं। मंदिर में स्थापित प्राचीन मूर्ति में शिवजी, गणेशजी और मां पार्वती के साथ दशमुखी सर्प शय्या पर विराजित हैं। शिवशंभु के गले और भुजाओं में भुजंग लिपटे हुए हैं।

क्या है पौराणिक मान्यता :

सर्पराज तक्षक ने शिवशंकर को मनाने के लिए घोर तपस्या की थी। तपस्या से भोलेनाथ प्रसन्न हुए और उन्होंने सर्पों के राजा तक्षक नाग को अमरत्व का वरदान दिया। मान्यता है कि उसके बाद से तक्षक राजा ने प्रभु के सा‍‍‍न्निध्य में ही वास करना शुरू कर दिया। लेकिन महाकाल वन में वास करने से पूर्व उनकी यही मंशा थी कि उनके एकांत में विघ्न ना हो अत: वर्षों से यही प्रथा है कि मात्र नागपंचमी के दिन ही वे दर्शन को उपलब्ध होते हैं। शेष समय उनके सम्मान में परंपरा के अनुसार मंदिर बंद रहता है। इस मंदिर में दर्शन करने के बाद व्यक्ति किसी भी तरह के सर्पदोष से मुक्त हो जाता है, इसलिए नागपंचमी के दिन खुलने वाले इस मंदिर के बाहर भक्तों की लंबी कतार लगी रहती है। हालाकि इस बार कोरोना काल की वजह से भीड़ कम रहेगी।

यह मंदिर काफी प्राचीन है। माना जाता है कि परमार राजा भोज ने 1050 ईस्वी के लगभग इस मंदिर का निर्माण करवाया था। इसके बाद सिं‍धिया घराने के महाराज राणोजी सिंधिया ने 1732 में महाकाल मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया था। उस समय इस मंदिर का भी जीर्णोद्धार हुआ था। सभी की यही मनोकामना रहती है कि नागराज पर विराजे शिवशंभु की उन्हें एक झलक मिल जाए। लगभग दो लाख से ज्यादा भक्त एक ही दिन में नागदेव के दर्शन करते हैं।

नागपंचमी पर वर्ष में एक बार होने वाले भगवान नागचंद्रेश्वर के दर्शन के लिए शनिवार रात 12 बजे मंदिर के पट खुलते हैं। नागचंद्रेश्वर मंदिर की पूजा और व्यवस्था महानिर्वाणी अखाड़े के संन्यासियों द्वारा की जाती है।

नागपंचमी पर्व पर बाबा महाकाल और भगवान नागचंद्रेश्वर के दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं के लिए अलग-अलग प्रवेश की व्यवस्था की जाती है। इनकी कतारें भी अलग होंगी। रात में भगवान नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट खुलते ही श्रद्धालुओं की दर्शन की आस पूरी हो जाती हैं।

Must Read

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में देश सही दिशा में आगे बढ़ रहा : मोदी

नयी दिल्ली / प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को 10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों से चर्चा कर कोरोना वायरस...

ATM चोरी के 7 सदस्य गिरफ्तार, यूट्यूब से तरीका सिख कर करते थे चोरी का प्रयास

बालौदाबाजार / छत्तीसगढ़ के बालौदाबाजार में एटीएम में चोरी की वारदात को पुलिस ने सुलझा लिया हैं । सिमगा पुलिस ने गिरोह के...

स्वास्थ्य विभाग को मिले 70 विशेषज्ञ डॉक्टर : मेडिकल कॉलेज अस्पतालों, जिला चिकित्सालयों तथा मातृ-शिशु अस्पतालों में देंगे सेवाएं

रायपुर / प्रदेश के विभिन्न शासकीय अस्पतालों में 70 नए विशेषज्ञ डॉक्टर सेवाएं देंगे। राज्य शासन के स्वास्थ्य...

46 टन जिंक सल्फेट जब्त : निर्माता कंपनी मेसर्स ओम केमिकल्स को कारण बताओ नोटिस

रायपुर / रासायनिक उर्वरकों की गुणवत्ता, भण्डारण एवं वितरण की स्थिति पर सतत् निगरानी बनाए रखने हेतु कृषि...

CAIT ने केंद्र सरकार से चीनी कम्पनी हुवावे और जेडटीई पर भारत में प्रतिबन्ध लगाने की मांग की, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को भेजा...

रायपुर / कन्फेडरेशन ऑफ आल इंड़िया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी, प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष मगेलाल मालू,...
error: Content is protected !!