भारत के 10 प्रसिद्ध गुरूद्वारे जहाँ सिक्खों के भक्ति अटल है…

गुरुद्वारा (पंजाबीਗੁਰਦੁਆਰਾ), जिसका शाब्दिक अर्थ गुरु का द्वार है सिक्खों के भक्ति स्थल हैं जहाँ वे अपने धार्मिक अनुष्ठान भी करते हैं। गुरुद्वारों में हर प्रकार के व्यक्ति आ सकते हैं, चाहे वे किसी भी धर्म को मानते हों (या ना भी मानते हों)। तथापि, आगन्तुकों के लिये यह आवश्यक है कि वे प्रवेश करने से पूर्व जूते-चप्पल इत्यादि उतार दें, हाथ धोएं तथा सिर को रूमाल आदि से ढक लें। शराब, सिगरेट अथवा अन्य नशीले पदार्थ भीतर ले जाना वर्जित है।

बता दे की सिक्खों के 10 गुरु रहे है जिनके नाम इस प्रकार है। गुरु नानक देव  · गुरु अंगद देव  · गुरु अमर दास  · गुरु राम दास  · गुरु अर्जुन देव  · गुरु हरगोबिंद  · गुरु हरि राए  · गुरु हरि कृष्ण  · गुरु तेग़ बहादुर  · गुरु गोबिंद सिंह  

जानिए भारत के 10 प्रसिद्ध गुरुद्वारों के बारे में –

1.गुरुद्वारा हरमिंदर साहिब सिंह, पंजाब 

Famous Gurdwaras in India, Hindi History Information
अमृतसर के इस गुरुद्वारा हरमिंदर साहिब सिंह को श्री दरबार साहिब और स्वर्ण मंदिर के नाम से भी जाना जाता हैं। यह गुरुद्वारा बेहद सुंदर होने के कारण पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। इसे भारत के मुख्य दर्शनिक स्थलों में भी गिना जाता है। मान्यताओं के अनुसार, इस गुरुद्वारे को बचाने के लिए महाराजा रणजीत सिंह जी ने इसके ऊपरी हिस्से को सोने से ढंक दिया था, इसलिए इसे स्वर्ण मंदिर का नाम भी दिया गया था।

2.गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब, उत्तराखंड 

Famous Gurdwaras in India Hindi History Information
गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब उत्तराखंड के चमोली जिले में है। यह गुरुद्वारा समुद्र स्तर से 4000 मीटर की ऊंचाई पर है। बर्फबारी के कारण यात्रियों की सुरक्षा के लिए इसे अक्टूबर से अप्रैल तक बंद कर दिया जाता है। यह गुरुद्वारा बेहद सुंदर होने के साथ-साथ एक बहुत ही अच्छी वास्तु कला का भी उदाहरण है।

3. हजूर साहिब गुरुद्वारा, महाराष्ट्र 

Famous Gurdwaras in India Hindi History Information
हजूर साहिब सिखों के 5 तख्तों में से एक है। यह महाराष्ट्र के नान्देड नगर में गोदावरी नदी के किनारे स्थित है। इसमें स्थित गुरुद्वारा ‘सच खण्ड’ कहलाता है। गुरुद्वारे के भीतर के कमरे को अन्गिथा साहिब कहा जाता है। माना जाता है कि इसी स्थान पर 1708 में गुरु गोबिंद सिंह का अंतिम संस्कार किया गया था। महाराजा रणजीत सिंह के आदेश के बाद इस गुरूद्वारे का निर्माण सन 1832-1837 के बीच हुआ था।

4. गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश

Famous Gurdwaras in India Hindi History Information
पांवटा साहिब गुरुद्वारा दसवें गुरु श्री गुरु गोबिंद सिंह जी को समर्पित है। यह हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में स्थित है। इसी जगह पर गुरु गोबिंद सिंह जी ने अपने जीवन के चार साल बिताए और इसी जगह पर दशम ग्रन्थ की रचना की। गुरुद्वारे का एक संग्रहालय है, जो गुरु के उपयोग की कलम और अपने समय के हथियारों को दर्शाती है।

5. सीस गंज गुरुद्वारा, दिल्ली 

Famous Gurdwaras in India Hindi History Information
यह दिल्ली का सबसे पुराना और ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। यह गुरु तेग बहादुर और उनके अनुयायियों को समर्पित है। इसी जगह गुरू तेग बहादुर को मौत की सजा दी गई थी, जब उन्‍होंने मुगल बादशाह औरंगजेब के इस्‍लाम धर्म को अपनाने के प्रस्‍ताव को ठुकरा दिया था। यह गुरूद्वारा 1930 में बनाया गया था, इस जगह अभी भी एक ट्रंक रखा है, जिससे गुरू जी को मौत के घाट उतार दिया गया था।

6. फतेहगढ़ साहिब, पंजाब 

Famous Gurdwaras in India Hindi History Information
फतेहगढ़ साहिब पंजाब के फतेहगढ़ जिले में मौजूद है। ऐसी मान्याता है कि वर्ष 1704 में साहिबज़ादा फतेह सिंह और साहिबज़ादा जोरावर सिंह को फौजदार वज़ीर खान के आदेश पर यहां दीवार में जिंदा चिनवा दिया गया था। यह गुरुद्वारा उन्हीं की शहादत की याद में बनाया गया था। गुरुद्वारे की मुख्य विशिष्टता सिख वास्तुकला का नमूना है जिसमें सफ़ेद पत्थर की संरचनाएं एवं स्वर्ण गुंबद है।

7. तख़्त श्री दमदमा साहिब, पंजाब 

Famous Gurdwaras in India Hindi History Information

दमदमा का मतलब ‘श्वास या आराम स्थान’ होता है। गुरुद्वारा श्री दमदमा साहिब सिखों के पांच तख्तों में से एक है। यह पंजाब के बठिंडा से 28 किमी दूर दक्षिण-पूर्व के तलवंडी सबो गांव में स्थित है। मुगल अत्याचारों के खिलाफ लड़ाई लड़ने के बाद गुरु गोबिंद सिंह जी यहां आकर रुके थे। इस वजह से इसे ‘गुरु की काशी’ के रूप में भी जाना जाता है।

8. गुरुद्वारा मणिकरण साहिब, हिमाचल प्रदेश 

Famous Gurdwaras in India Hindi History Information
गुरुद्वारा मणिकरण साहिब मनाली के पहाड़ों के बीच बना हुआ है और इसलिए यहां का नजारा बहुत ही सुन्दर दिखाई देता है। ऐसा कहा जाता है कि यह पहली जगह है जहां गुरू नानक देव जी ने अपनी यात्रा के दौरान ध्यान लगाया था। यह गुरुद्वारा जिस पूल पर बना हुआ है, उसी पूल के दूसरे छोर पर भगवान शिव का बहुत ही प्रसिद्ध मंदिर है। इसी वजह से यह जगह और भी खास मानी जाती है।

9. गुरुद्वारा श्री केश्घर साहिब, पंजाब 

Famous Gurdwaras in India Hindi History Information
गुरुद्वारा श्री केश्घर साहिब, पंजाब के आनंदपुर शहर में है। कहा जाता है कि आनंदपुर शहर की स्थापना सिखों के 9वें गुरू तेग बहादुर ने की थी। साथ ही यह गुरुद्वारा सिख धर्म के खास 5 तख्तों में से एक है। इसी कारणों से इस गुरुद्वारे को बहुत ही खास माना जाता है।

10.गुरुद्वारा बंगला साहिब, दिल्ली 

Famous Gurdwaras in India Hindi History Information
मध्य दिल्ली में स्थित गुरुद्वारा बंगला साहिब के रुप में मौजूद जगह पहले राजा जय सिंह की थी, जिसे बाद में गुरु हरकिशन जी की याद में एक गुरुद्वारे में तब्दील कर दिया गया। शुरुआती दिनों में इसे जयसिंहपुरा पैलेस कहा जाता था, जो बाद में बंगला साहिब के नाम से मशहूर हुआ।

Share this news
  • 12
  •  
  •  
  •  
  •