Home रायपुर बाजारों में फल सब्जियों के दामों में लगी आग को कैसे बुझाएगी...

बाजारों में फल सब्जियों के दामों में लगी आग को कैसे बुझाएगी सरकार? – प्रकाशपुन्ज पाण्डेय

रायपुर / समाजसेवी और राजनीतिक विश्लेषक प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने मीडिया के माध्यम से जनता से जुड़ी हुई एक बड़ी समस्या को चिन्हित करते हुए कहा है कि बाजार में फल सब्जियों के दामों में आग लगी हुई है लेकिन सरकार अब तक महंगाई की समस्या और उसके निदान पर पूरी तरह से विफल साबित हुई है। सरकार को बड़ी ही गंभीरता से सोचना होगा कि जहाँ एक ओर देश में नोटबंदी के बाद अर्थव्यवस्था की रफ्तार धीमी पड़ गई है वहीं दूसरी ओर कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण हुए देशव्यापी लॉकडाउन के कारण रही सही कमी पूरी हो गई। अगर बात करें महंगाई की तो जहां एक ओर आम लोगों के आय के साधन में कमी आई है, लोगों की जेब में पैसे कम बचने लगे, वहीं दूसरी ओर महंगाई मुंह बाए खड़ी है।

प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने कहा कि छत्तीसगढ़ में भी इसका बहुत बड़ा असर हुआ है जहां एक ओर छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन के शुरुआती दौर में कोरोना के आंकड़े कम थे, वहीं आज यह आंकड़े लगभग एक लाख के आसपास पहुंच रहे हैं और सरकार की लाख सकारात्मक कोशिशों के बाद भी इस पर काबू नहीं पाया जा रहा है, जिसके फलस्वरूप सरकार को बार-बार अलग-अलग जिलों में लॉकडाउन लगाने की जरूरत पड़ रही है। यही नहीं अब जो लॉकडाउन लग रहा है वह संपूर्ण रूप से लग रहा है। ठीक है कि सरकार कोरोना के मामले को लेकर गंभीर दिखाई पड़ती है लेकिन लॉकडाउन ही इसका इलाज नहीं है। क्योंकि लॉकडाउन के कारण जनता में अफरा-तफरी का माहौल हो जाता है और घर में भंडारण के हेतु लोग एक साथ सामान खरीदने की फिराक में रहते हैं और इन सभी कारणों के कारण महंगाई और बढ़ती जा रही है। जैसा कि सबको पता है कि फल और सब्जी रोज़मर्रा की जरूरत है और इसके बिना कोई भी व्यक्ति रह नहीं सकता, लेकिन कुछ लोग कालाबाजारी करने की फिराक में रहते हैं और इस कारण बाजार में फल सब्जियों के भाव बहुत ज्यादा बढ़ गए हैं।

प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से यह अपील की है कि इस महंगाई के दौर में जहां आय के साधनों में कमी आई है लेकिन हर परिवार और हर व्यक्ति के खर्चे बढ़ते जा रहे हैं, सरकार को चाहिए कि कम से कम अनाज, फल और सब्जियों के दामों पर रोक लगाए ताकि ग़रीब और साधारण व्यक्ति दो वक्त की रोटी खा पाए। आज सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं अब यह कैसे मुमकिन है कि एक आम आदमी दो वक्त की सब्ज़ी खा पाए। यह बहुत ही गंभीर समस्या है। सरकार को इस पर संवेदनशीलता से विचार करना चाहिए क्योंकि लॉकडाउन सरकार ने लगाया है जनता ने नहीं। अगर सरकार जनता के हित में लॉकडाउन लगा रही है, तो सरकार को बाजार में बिकने वाली रोज़मर्रा की वस्तुएं जैसे दूध, फल, सब्जी और अनाज के मूल्यों की वृद्धि पर ही अंकुश लगाने की अत्यधिक आवश्यकता है।

आज के सब्जियों के दाम –
आलू – 50 ₹ प्रति केजी, प्याज़ – 45 ₹ प्रति केजी, टमाटर – 60 ₹ प्रति केजी, हरी मिर्च – 120 ₹ प्रति केजी, तरोई – 60 ₹ प्रति केजी, लहसुन – 160 ₹ प्रति केजी, बैगन – 60 ₹ प्रति केजी, कद्दू – 30 ₹ प्रति केजी, लौकी – 70 ₹ प्रति केजी, फूल गोभी – 80 ₹ प्रति केजी, पत्तागोभी – 80 ₹ प्रति केजी, अदरक – 80 ₹ प्रति केजी, नींबू – 3₹ प्रित नग, गाजर – 40 ₹ प्रति केजी, करेला – ₹ 80 प्रति केजी, लाल भाजी – 80 ₹ प्रति केजी आदि।

सेब – 100 ₹ प्रति केजी से लेकर 280 ₹ प्रति केजी तक
केला – 60 ₹ दर्जन
अमरुद – 50 ₹ प्रति केजी
अनन्नास – 50 ₹ प्रति नग
मोसम्बी – 70 ₹ प्रति केजी

Must Read

स्व अजीत जोगी के अपमान से व्यथित रेणु जोगी ने कांग्रेस नेताओं पर साधा निशाना, बोलीं निर्वाचन अधिकारी से करेंगी शिकायत

00 स्तरहीन बयानबाज़ी करना बंद करें कांग्रेस अध्यक्ष - रेणु जोगी 00 कांग्रेस अध्यक्ष ने सिर्फ स्व. अजीत जोगी...

IPL किक्रेट सटोरियो के विरुद्ध पुलिस की बडी कार्यवाही,भाटिया सहित चार गिरफ्तार

राजनांदगांव / डोंगरगढ़ व नागपुर ( महाराष्ट्र ) के है आरोपीगण आज को जुर्म जरायम पतासाजी के दौरान सूचना मिली कि अटल...

अजीब दादागिरी, कोरिया में ठेकेदार तय कर रहे हैं रेत के दाम, नीलामी के बाद से परिवहनकर्ता परेशान

00 मेरी दुकान चाहे जितनी में बेचू समान - ठेकेदार00 बिहार राज चलेगा जो करना है कर लो - ठेकेदार00 पीट पास...

माँ बम्लेश्वरी देवी दर्शन कर राज्यपाल ने मांगा आशीर्वाद

छत्तीसगढ़ की राज्यपाल पहुँची डोंगरगढ़, माँ बम्लेश्वरी देवी का उन्होंने किया दर्शन । प्रदेश की राज्यपाल महामहिम सुश्री अनसुइया...
error: Content is protected !!