अच्छी खबर – ‘लाल आतंक’ का साथ छोड़ 60 नक्सलियों का सरेंडर

नारायणपुर / बस्तर आईजी के सामने बड़ी संख्या में नक्सलियों ने सरेंडर किया है। आईजी विवेकानंद सिन्हा के सामने अबूझमाड़ इलाके के 60 नक्सलियों ने ‘लाल आतंक’ का साथ छोड़ दिया। सरेंडर करने वालों में 40 युवक और 20 युवतियां हैं।

सुरक्षाबलों और सरकार के लिए ये एक तरह से अच्छी खबर है 60 नक्सलियों ने ‘लाल आतंक’ का साथ छोड़ दिया। आत्मसमर्पण करने वाले नक्सली अपने साथ भरमार बंदूक लाए थे। पुलिस अधिकारी ने बताया कि सभी नक्सली पिछले लगभग आठ वर्षों से नक्सली संगठन में सक्रिय थे। इनमें से पांच नक्सलियों को प्रोत्साहन राशि प्रदान किया गया है। आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों को राज्य शासन की पुनर्वास नीति के तहत पुनर्वास योजना का लाभ दिया जाएगा।

सरेंडर करने वालों का कहना है कि वो नक्सली संगठन की रणनीति से तंग आ चुके थे।

नक्सलियों ने पुलिस अधिकारियों को बताया कि उन्होंने माओवादी संगठन की खोखली विचारधारा और गलत नीतियों से तंग आकर समाज की मुख्यधारा में शामिल होने का फैसला किया है।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलिस के समक्ष जिले के कानागांव के दो नाबालिग नक्सलियों समेत 16 नक्सलियों ने, कोहकामेटा गांव के पांच नाबालिग नक्सलियों समेत 18 नक्सलियों ने, इरकभटटी गांव के एक नाबालिग नक्सली समेत 11 नक्सलियों ने, कच्चापाल गांव के पांच नाबालिग नक्सली समेत 15 नक्सलियों ने तथा इकमेटा और पिड़दिलपर गांव के दो नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया है।

Share this news
  • 9
  •  
  •  
  •