छत्तीसगढ़ पुलिस बना रही फिल्म, कलाकार पुलिस और सरेंडर कर चुके नक्सली 

दंतेवाड़ा / दंतेवाड़ा पुलिस नक्सलियों की हकीकत बया करने एक फिल्म बना रही है। इस फिल्म के स्क्रिप्ट राइटर और गीतकार दंतेवाड़ा में ही पदस्थ एएसपी सूरज सिंह परिहार हैं। कलाकार भी पुलिस के ही 100 जवान और सरेंडर कर चुके नक्सली हैं। फिल्म का नाम ‘नई सुबह का सूरज’ रखा गया है।

आपको बता दे कि फिल्म में नक्सलवाद की सच्ची घटनाओं का फिल्मांकन किया गया है। करीब 10 मिनट की इस शॉर्ट-फिल्म की शूटिंग के लिए भिलाई, रायपुर से जवानों की एक टीम दंतेवाड़ा पहुंची है।दंतेवाड़ा जिला पुलिस बल और डीआरजी के जवानों के अलावा फिल्म में सरेंडर कैडर के नक्सली भी अभिनय करते नजर आएंगे। फिल्म में एसपी का रोल भी खुद एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव ही अदा कर रहे हैं। शूटिंग की शुरुआत कारली के घने जंगल से हो रही है। इसके अलावा दंतेवाड़ा की अलग-अलग लोकेशंस में भी शूटिंग होगी।

फ़िल्म में नक्सलियों के सबसे बड़े नेता गणपति, हिड़मा और हुंगी कामुख्य किरदार है। गणपति के रोल के लिए भिलाई के कलाकारों को बुलाया गया है। क्योंकि, नक्सलियों के बड़े लीडर्स दंतेवाड़ा के बाहर के होते हैं, ऐसे में इस किरदार के लिए बाहर के कलाकार को चुना गया।

दिलचस्प है कहानी….

एक सरेंडर महिला नक्सली एसपी के पास बच्चे को लेकर पहुंचती है। कहती है- “सर, मेरा बच्चा अब 3 साल का हो गया है, इसे स्कूल भेजना चाहती हूं। एसपी कहते हैं- “तुम्हारा सूरज, हमारे लिए ‘नई सुबह का सूरज’ जैसा है, इसके लिए मैंने पास के स्कूल में बात कर ली है कोई समस्या नहीं है।”ऐसी ही 8-10 कहानियों के दृश्य होंगे। एएसपी सूरज ने बताया यहां आने के बाद नक्सलवाद के दर्द को समझ कर यह कहानी लिखी है। एएसपी सूरज को राष्ट्रपति से बालश्री सम्मान भी मिल चुका है।

77total visits,2visits today

Share this news
  •  
  •  
  •  
  •