मोदी मंत्रिमंडल में रेणुका सिंह ने ली राज्यमंत्री पद की शपथ

रायपुर / प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल में एक बार फिर छत्तीसगढ़ को प्रतिनिधित्व मिला है।

नई दिल्ली में सरगुजा सांसद रेणुका सिंह ने राज्यमंत्री पद की शपथ ली। मोदी मंत्रिमंडल में वे छत्तीसगढ़ से इकलौती मंत्री हैं। हालांकि माना जा रहा था कि छत्तीसगढ़ से बीजेपी के 9 सीटें जीतने के बाद एक से एक चेहरों को मोदी मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है, लेकिन ऐसा हुआ नहीं।

बता दें कि रेणुका सिंह हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में सरगुजा से सांसद निर्वाचित हुई हैं। विधानसभा चुनावों में सरगुजा की 8 विधानसभा सीटों से भाजपा की हार हुई थी। हालांकि लोकसभा चुनाव में यहां की जनता ने भाजपा पर भरोसा जताया और रेणुका सिंह को मौका दिया। रेणुका सिंह ने कांग्रेस के उम्मीदवार को एक लाख 57 हजार 873 मतों से शिकस्त देकर जीत हासिल की थी। रेणुका सिंह को 663711 मत हासिल हुए जबकि कांग्रेस के खेलसाय सिंह को 505838 मत हासिल हुए।

गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के शा देवी पोवा 24269 मत हासिल कर तीसरे तथा बीएसपी की माया भगत 8344 मत हासिल कर चौथे स्थान पर रहीं। इस सीट पर 29049 मत नोटा को प्राप्त हुए, जोकि दोनों प्रमुख उम्मीदवारों के अलावा मिले मतों के बाद सबसे अधिक है।

गौरतलब हो कि प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की सरकार बनने के बाद सरगुजा संभाग से मुख्यमंत्री का चेहरा तय करने की आवाज उठाई गई थी। हालांकि गृहमंत्री और मुख्यमंत्री दोनों चेहरे दुर्ग संभाग से चुने गए थे। शाह में सरगुजा से रेणुका सिंह को मंत्रिमंडल में शामिल कर तीन मैसेज दिए हैं। पहला केवल नए चेहरों को चुनाव लड़ने का ही मौका नहीं दिया गया बल्कि उन्हें मंत्रिमंडल में भी शामिल किया जा रहा है। दूसरा मैसेज से है कि प्रदेश से महिला को कैबिनेट में शामिल होने का मौका दिया गया है। तीसरा और सबसे खास मैसेज सरगुजा के लोगों के लिए है कि इनका ध्यान कांग्रेस पार्टी भले ही न रखे, लेकिन भाजपा ने इस बात का पूरा ख्याल किया है।

विधानसभा चुनावों में सरगुजा की 8 विधानसभा सीटों से भाजपा बिल्कुल साफ हो गई थी। हालांकि लोकसभा चुनाव में यहां की जनता ने भाजपा पर भरोसा जताया और रेणुका सिंह को मौका दिया। इसके बाद भाजपा ने सरगुजा की जनता को इसका रिवर्ट रेणुका सिंह को मंत्रिमंडल में शामिल कर तुरंत दे दिया। साथ ही अगले विधानसभा चुनाव की खातिर अपने लिए जमीन भी तैयार कर ली।



रेणुका सिंह सरुता 12वीं पास हैं। इनके पास 2.76 करोड़ की संपत्ति है। ये तेज तर्रार छवि वाली आदिवासी नेत्री मानी जाती हैं। अनुसूचित जनजाति मोर्चा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश कार्यसमिति की सदस्य हैं। 2000-03 तक अविभाजित मध्य प्रदेश में भाजपा रामानुजनगर मंडल की पहली महिला अध्यक्ष थीं। जनपद सदस्य निर्वाचित होने के साथ ही समाज कल्याण बोर्ड की सदस्य भी रह चुकी हैं। 2003 और 2008 में प्रेमनगर विधानसभा से विधायक चुनी गईं। भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश मंत्री रह चुकी हैं। वहीं रमन सिंह सरकार में महिला बाल विकास एवं समाज कल्याण मंत्री रहीं। इसके बाद उन्हें सरगुजा एवं उत्तर क्षेत्र आदिवासी प्राधिकरण की उपाध्यक्ष बनाकर कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया।



 

199total visits,4visits today

Share this news
  •  
  •  
  •  
  •