VIDEO – आदि शक्ति माँ ज्वाला देवी मंदिर धूमा देवी के नाम से भी प्रसिद्द है, प्रतिदिन 5 बार होती है भव्य आरती ….

VIDEO – आदि शक्ति माँ ज्वाला देवी मंदिर धूमा देवी के नाम से भी प्रसिद्द है, प्रतिदिन 5 बार होती है भव्य आरती ….

आदि शक्ति माँ ज्वाला देवी के मंदिर की कई किवदंतियां प्रचलित हैं, यहाँ भक्तों के श्रद्धा भाव से सिर्फ एक नारियल मात्र चढ़ाने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है, माँ ज्वाला देवी का यह शक्तिपीठ धूमा देवी के नाम से भी प्रसिद्द है, माँ ज्वाला देवी के मंदिर में शांति और सोंदर्य का अद्भूत अनुभव भक्तों को यहाँ बार -बार खींच लाता है।  माँ ज्वाला देवी का मंदिर माँ के सभी 51 शक्तिपीठों में से सबसे अधिक उंचाई पर स्थित है। शांति और सोंदर्य का अद्भूत अनुभव भक्तों को यहाँ बार -बार खींच लाता…

Read More

खरमास खत्म, अब से शुरू हो जाएंगे शुभ कार्य, जानिए शुभ वैवाहिक मुहूर्त…

खरमास खत्म, अब से शुरू हो जाएंगे शुभ कार्य, जानिए शुभ वैवाहिक मुहूर्त…

शास्त्रों में शादी-विवाह के लिए शुभ मुहूर्त का होना बड़ा महत्व है। वैवाहिक बंधन को सबसे पवित्र रिश्ता माना गया है। इसलिए इसमें शुभ मुहूर्त का होना जरूरी है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शादी के शुभ योग के लिए बृहस्पति, शुक्र और सूर्य का शुभ होना जरूरी है। विगत कई वर्षों की अपेक्षा इस वर्ष मंगलकारी नक्षत्रों के राजा पुष्य का गुरु और रवि के साथ संयोग पिछले वर्षों से अधिक बन रहा है, I इस वर्ष 12 महीनों में पांच दिन रवि और 3 दिन गुरु पुष्य नक्षत्र का…

Read More

VIDEO – कुतुबमीनार ! भारत में मुस्लिम शासक द्वारा अपने लिए बनवाया गया यह पहला मकबरा है…

VIDEO – कुतुबमीनार ! भारत में मुस्लिम शासक द्वारा अपने लिए बनवाया गया यह पहला मकबरा है…

क्या आप जानते है … कुतुबमीनार का निर्माण गुलाम वंश के शासक कुतुबुद्दीन ऐबक ने 1193 ई० में शुरू कराया था। लेकिन कुतुबुद्दीन ऐबक के दामाद एवं उत्‍तराधिकारी शमशुद्दीन इल्तुतमिश ने इसका निर्माण कार्य पूरा कराया और कुतुब मीनार का नाम ख़्वाजा क़ुतबुद्दीन बख्तियार काकी के नाम पर रखा गया था।  कुतुब मीनार की ऊँचाई 72.5 मीटर है, इसका धरतलीय व्यास 14.32 मीटर और शीर्ष बिन्दु का व्यास 2.75 मीटर है। कुतुब मीनार 1326 ई. में क्षतिग्रस्त हो गई थी और मुगल बादशाह मुहम्मद बिन तुग़लक़ ने इसकी मरम्मत करवायी…

Read More

भारत के 10 प्रसिद्ध गुरूद्वारे जहाँ सिक्खों के भक्ति अटल है…

भारत के 10 प्रसिद्ध गुरूद्वारे जहाँ सिक्खों के भक्ति अटल है…

गुरुद्वारा (पंजाबी: ਗੁਰਦੁਆਰਾ), जिसका शाब्दिक अर्थ गुरु का द्वार है सिक्खों के भक्ति स्थल हैं जहाँ वे अपने धार्मिक अनुष्ठान भी करते हैं। गुरुद्वारों में हर प्रकार के व्यक्ति आ सकते हैं, चाहे वे किसी भी धर्म को मानते हों (या ना भी मानते हों)। तथापि, आगन्तुकों के लिये यह आवश्यक है कि वे प्रवेश करने से पूर्व जूते-चप्पल इत्यादि उतार दें, हाथ धोएं तथा सिर को रूमाल आदि से ढक लें। शराब, सिगरेट अथवा अन्य नशीले पदार्थ भीतर ले जाना वर्जित है। बता दे की सिक्खों के 10 गुरु रहे है जिनके…

Read More

64 योगिनियों की पूजा करने से नवरात्रि में मिलेगा सब कुछ और करें दुर्गा चालीसा का पाठ, दूर होंगे सारे दुख

64 योगिनियों की पूजा करने से नवरात्रि में मिलेगा सब कुछ और करें दुर्गा चालीसा का पाठ, दूर होंगे सारे दुख

ऐसी मान्यता है की चौसठ योगिनियों की पूजा करने से सभी देवियों की पूजा हो जाती है। इन योगिनियों में दशमहाविद्याओं के अलावा, अम्बिका, पार्वती, काली आदि शक्ति की सभी देवियों के स्वरूप समाए हुए हैं। ये सभी आदिशक्ति मां काली का अवतार है। घोर नामक दैत्य के साथ युद्ध करते हुए माता ने ये अवतार लिए थे। यह भी माना जाता है कि ये सभी माता पर्वती की सखियां हैं। इन चौंसठ देवियों में से दस महाविद्याएं और सिद्ध विद्याओं की भी गणना की जाती है। ये सभी आद्या शक्ति…

Read More

मां शैलपुत्री की आराधना से आज प्रारंभ होगा शक्ति का पर्व

मां शैलपुत्री की आराधना से आज प्रारंभ होगा शक्ति का पर्व

नवरात्रि में दुर्गा पूजा के अवसर पर दुर्गा देवी के नौ रूपों की पूजा-उपासना बहुत ही विधि विधान से की जाती है। इन रूपों के पीछे तात्विक अवधारणाओं का परिज्ञान धार्मिक, सांस्कृतिक और सामाजिक विकास के लिए आवश्यक है। मां दुर्गा को सर्वप्रथम शैलपुत्री के रूप में पूजा जाता है। हिमालय के वहां पुत्री के रूप में जन्म लेने के कारण उनका नामकरण हुआ शैलपुत्री। इनका वाहन वृषभ है, इसलिए यह देवी वृषारूढ़ा के नाम से भी जानी जाती हैं। इस देवी ने दाएं हाथ में त्रिशूल धारण कर रखा है…

Read More

नवरात्रि घटस्थापना के समय इन 9 बातों का नवरात्रि पर रखें ध्यान, वरना नहीं मिलेगा पूजा का फल…

नवरात्रि घटस्थापना के समय इन 9 बातों का नवरात्रि पर रखें ध्यान, वरना नहीं मिलेगा पूजा का फल…

नवरात्रि की 9 देवियां हमारी परंपरा एवं आध्यात्मिक संस्कृति के साथ जुड़ी हुई हैं। आदिशक्ति के हर रूप की नवरात्रि के 9 दिनों में क्रमश: अलग-अलग पूजा की जाती है। आदिशक्ति मां नवदुर्गा की आराधना सर्वप्रथम श्रीरामचंद्रजी ने इस शारदीय नवरात्रि पूजा का प्रारंभ समुद्र तट पर किया था और उसके बाद 10वें दिन लंका विजय के लिए प्रस्‍थान किया और विजय प्राप्त की। तब से असत्य, अधर्म पर सत्य, धर्म की जीत का पर्व दशहरा मनाया जाने लगा। 1. देवी को लाल रंग के वस्त्र, रोली, लाल चंदन, सिंदूर,…

Read More

गुरू पूर्णिमा है आज, जानें पूजा विधि और महत्व…

गुरू पूर्णिमा है आज, जानें पूजा विधि और महत्व…

गुरु के प्रति अपना आदर और सम्मान प्रगट के करने के लिए आषाढ़ महीने की शुक्ल पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा का त्योहार मनाया जाता है। इस बार यह गुरू पूर्णिमा आज 27 जुलाई, दिन शुक्रवार को है। गुरु पूर्णिमा के मौके पर हम आपको भारत के दस उन महान गुरुओं के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका आदर न सिर्फ देवता करते थे बल्कि दानव भी उनसे शिक्षा ग्रहण करते थे। तो आईए जानते है कौन है वो गुरु – महर्षि वेदव्यास प्राचीन भारतीय ग्रन्थों के अनुसार महर्षि वेदव्यास…

Read More

केदारनाथ मंदिर के कपाट खोले जाएंगे कल, बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे केदारनाथ

केदारनाथ मंदिर के कपाट खोले जाएंगे कल, बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे केदारनाथ

जून 2013 की भीषण आपदा में तहस-नहस हुई बाबा केदारनाथ की नगरी कुछ ही सालों में इतनी बदल जाएगी किसी ने सोचा नहीं होगा। खासकर इन तस्वीरों को देखने के बाद तो कोई भी यह यकीन नहीं करेगा। केदारनाथ मंदिर के कपाट खुलने से पहले धाम की भव्य तस्वीरें कैमरे में कैद हुई हैं। केदारनाथ धाम में कई तरह के बदलाव हो गए। यकीनन इस बार धाम आने वाले श्रद्धालुओं को यह एक नए अवतार में दिखेंगे। केदारनाथ धाम की यात्रा के लिए श्रद्धालुओं में गजब का उत्साह है। रविवार…

Read More

सिरोली के हनुमान चमत्कारी है… दायां पैर का थाह आज तक नहीं लगा सका कोई है इतना धसा हुआ ? देखें वीडियों…

सिरोली के हनुमान चमत्कारी है…   दायां पैर का थाह आज तक नहीं लगा सका कोई है इतना धसा हुआ ? देखें वीडियों…

00 देश विदेश से भी लोग आते है हनुमान के चरणों में शीश नवाने 00 दक्षिण मुखी हनुमान के पुरातन मूर्तियों में से एक 00 कोरिया रियासत के राजा स्वर्गीय रामानुज प्रताप सिह्देव ने बनवाया मंदिर कोरिया / शनि देव के कहर से राहत देने वाले बजरंग बली की पुरातन मूर्तियों में एक जिसके पीछे कई रहस्य छिपे है। एक हाथ सीने में तो एक हाथ सर पर और एक पैर अनंत भूतल में समाया हुआ है, जिसकी गहराई स्वय कोरिया रियासत के राजा स्वर्गीय रामानुज प्रताप सिह्देव भी सन…

Read More