Wednesday, February 8, 2023
पर्यटन / आस्था कृष्ण जन्माष्टमी - पूजन में जरूर रखें 'खीरा', नहीं...

कृष्ण जन्माष्टमी – पूजन में जरूर रखें ‘खीरा’, नहीं तो अधूरी रह जाएगी पूजा

-

हिंदूओं के कई बड़े त्योहारों में जन्माष्टमी का पर्व भी एक है. इस बार जन्माष्टमी की तिथि को लेकर कंफ्यूजन बना हुआ है.  जहां कुछ लोगों में 18 अगस्त के दिन जन्माष्टमी पर्व मनाया है. वहीं, कई जगह 19 अगस्त को जन्माष्टमी मनाई जा रही है. जन्माष्टमी पूजन के समय श्री कृष्ण की प्रिय चीजें, ऋंगार, पूजा-पाठ आदि किया जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं श्री कृष्ण के जन्म के समय जो सबसे जरूरी और महत्वपूर्ण चीज पूजा में रखी जाती है वो है खीरा. 

शास्त्रों में कहा गया है कि कृष्ण जन्मोत्सव की पूजा खीरे के बिना अधूरी मानी जाती है. इस दिन कान्हा के जन्म के समय खीरे का डंठल काटने की परंपरा है. इसके बाद खीरा का भोद लगाया जाता है. जिससे भगवान श्री कृष्ण प्रसन्न होकर भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं. आइए जानते हैं जन्माष्टमी पर खीरे का महत्व. 

खीरे के बिना अधूरी है जन्माष्टमी की पूजा

जन्माष्टमी के दिन पूजा में खीरा रखने की परंपरा है. इस दौरान खीरे का डंठल काटा जाता है. लेकिन क्या आप इसके पीछे की कहानी जानते हैं ? जन्म के समय जैसे बच्चे को गर्भनाल काटकर बाहर निकाला जाता है. वैसे ही जन्माष्टमी के दिन कान्हा का जन्म करने के लिए खीरा काटा जाता है. इस दिन खीरा काटने का मतलब है बाल गोपाल को उनकी मां जानकी देवी के गर्भ से अलग करना. इस प्रक्रीया को नाल छेदन भी कहा जाता है.

रात 12 बजे की जाती है ये परंपरा

जन्माष्टमी के दिन रात 12 बजे श्री कृष्ण का जन्म हुआ था. ठीक इसी समय हर साल खीरे का डंठल काटा जाता है. हल्की पत्तियां वाला खीरा लाकर उसे पूजा में रखा जाता है. सिक्के की मदद से खीरे का डंठल काट दिया जाता है. इसके बाद शंख बजाकर बाल गोपाल के आने की खुशियां मनाई जाती हैं. इसके बाद उनकी पूजा का विधान है. 

बांके बिहारी को लगाएं खीरे का भोग

इस दिन कान्हा को खीरे का भोग लगाया जाता है. ऐसा माना जाता है कि इस दिन खीरे का भोग लगाने से भगवान श्री कृष्ण बेहद प्रसन्न हो जाते हैं और भक्तों के सभी कष्ट हर लेते हैं. पूजा के बाद इस खीरे को लोगों में प्रसाद के रूप में बांट दिया जाता है. ऐसा भी माना जाता है कि अगर ये खीरा गर्भवती महिला को खिला दिया जाए, तो श्री कृष्ण के समान संतान की प्राप्ति होती है. 

Latest news

डॉ० सत्यजीत की PURE संस्था की टीम एक बार पुनः सिंघत में दी दस्तक

00 जनपद के ग्राम पंचायत सिंघत में विशेष संरक्षित जनजातियों समूहों (बैगा) का जनजागरूकता स्वास्थ्य शिविर का...

कवासी लखमा कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के दबाव में हैं- केदार

भूपेश के मंत्री ईसाई विरोध के बारे में बोल कर दिखाएं: भाजपा रायपुर /...

10 करोड़ की ठगी, चिटफंड कंपनी का डायरेक्टर पंजाब से गिरफ्तार

रायपुर / राजधानी में सैकड़ों लोगों से 10 करोड़ रुपये से अधिक की ठगी कर आठ साल से...

राजिम माघी पुन्नी मेला का भव्य शुभारंभ :राजिम धार्मिक, आध्यात्मिक और सामाजिक समागम का केंद्र: CM भूपेश बघेल

राजिम / माघ पूर्णिमा से महाशिवरात्रि तक आयोजित होने वाले सुप्रसिद्ध राजिम माघी पुन्नी मेला का भव्य...

प्रदेश में अब तक लगभग 6 करोड़ रूपए की 18 हजार से अधिक कोदो, कुटकी और रागी की खरीदी

15 फरवरी तक होगी समर्थन मूल्य पर खरीदी प्रदेश की समस्त प्राथमिक वनोपज सहकारी...

Must read

You might also likeRELATED
Recommended to you

error: Content is protected !!