ज़रूरत पड़ी तो हम फिर घर-घर जाकर किसान भाइयों के लिये सहयोग मांगेंगे – आदित्य भगत

276


“एक रुपए, एक पैली देकर बढ़ाएँ किसानों का मान” के तहत संग्रहित धान व धनराशि एनएसयूआई ने किसानों को सौंपा

एनएसयूआई छत्तीसगढ़ ने दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलनरत किसानों के लिये एक रूपया और एक पैली धान देकर बढ़ाएँ किसानों का मान अभियान के तहत छत्तीसगढ़ के हर जिले से धान व नकद राशि एकत्र किया था। इसके तहत पूरे प्रदेश से 53,009 किलो धान एवं 66500 रूपये की राशि संग्रहित हुई। यह राशि और धान आज टिकरी सीमा पर एनएसयूआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन, छग प्रभारी विशाल चौधरी, छत्तीसगढ़ एनएसयूआई अध्यक्ष आकाश शर्मा और प्रदेश महासचिव आदित्य भगत ने किसानों को सौंपा।


इस मौके पर छत्तीसगढ़ एनएसयूआई के महासचिव आदित्य भगत ने कहा कि कांग्रेस पार्टी की गौरवशाली परम्परा का निर्वहन करते हुए, आज एनएसयूआई ने अपने अभियान को मुकाम तक पहुँचाया है। ये किसान आज हिटलरशाही के सामने मज़बूती से ताल ठोककर डटे हुए हैं। ज़रूरत पड़ी तो हम फिर से घर-घर जाएंगे। किसान भाइयों के सहयोग के लिये लोगों से सहयोग मांगेंगे, किसान भाई जब तक मोर्चे पर डटे हैं, हम उनके साथ रहेंगे।


आदित्य भगत ने यह भी कहा कि टिकरी बॉर्डर पर किसानों के भोजन के लिये लंगर चलाया जा रहा है। एनएसयूआई द्वारा भी यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि देश का पेट भरने वाले किसानों के लिए जब तक ज़रूरत पड़े लंगर की व्यवस्था की जाएगी।